चने खाने के फायदे, सही वक्त और तरीका

दोस्तों, हमारी बॉडी की पोषण की कमी को पूरा करने के लिए चना, एक बहोत ही लाजवाब option है, लेकिन आपके लिए ये जाना भी बेहद ज़रूरी है की चने खाने का सही तरीक़ा क्या है? तभी आप चने से मिलने वाले सभी फ़ायदे उठा पाएँगे।  अंकुरित चने, उबले हूँअ चने, या फिर कच्चे चने, आपके शरीर के लिए कोनसे चने है बेहतर, वज़न कम करना है या वज़न बढ़ाना है तो कैसे ओर किस तरह खाए चने साथ ही ओर भी काफ़ी सारी बातें जान्ने के लिए बने रहिए हमारे साथ|

तो सबसे पहले देखते है की चने खाने से हमारी बॉडी को क्या क्या फायदे मिलते है?

चने खाने के अनगिनत फायदे है. जिन लोगो को Indigestion की प्रॉब्लम है उनके लिए चना काफी useful है. चने में फाइबर बहोत ज़्यादा होता है, और इसी लिए चना डायरिया, सख्त मल, और गैस जैसी digestion related problems से छुटकारा दिलाता है.

इसके अलावा जो लोग मोटापे से परेशान है उन्हें भी अपने डाइट में चना add करना चाहिए.  मोटापे की सबसे बड़ी वजह होती है excessive hunger. लोग मोटापा कम करना चाहते है लेकिन वो अपनी भूख कंट्रोल नहीं कर पाते. लेकिन अगर चने की बात करे तो इसमें ग्लाइसेमिक इंडेक्स कम होता है, जिसकी वजह से आप अपनी भूक को कंट्रोल कर पाते है और फिर आप वजन कम करने के लिए आराम से डाइटिंग कर सकते है.

जिन लोगो को हमेशा यंग दिखना है उन्हें अपनी डाइट लिस्ट में चना ज़रूर शामिल करना चाहिए. चने में कई सारे विटामिन्स होते है जो कोलेजन को बढ़ाकर आपकी स्किन को healthy बनाता है. और सबसे बड़ी बात ये है की चना सूरज की harmful किरणों से भी आपकी स्किन को प्रोटेक्ट करता है.

दोस्तों, अब बात करते है की चना खाने का सही तरीका कौनसा है. वैसे तो चना खाने के कई सारे तरीके है लेकिन अगर आपने जल्दबाज़ी मे सिर्फ चने के फायदे देख के खाना शुरू कर दिया तो आपको काफी सारी परेशानियाँ झेलनी पड़ सकती है. इस लिए हर एक तरीके को ध्यान से देखिये और समजिये.

कच्चे या पानी में भीगे चने

सबसे पहला तरीका है चने को पानी में भीगा के खाना. कई लोगो को ये लगता है की भीगे चने खाना एक best option है. और वो लोग ऐसा इस लिए सोचते है की उन्होंने अपने आसपास किसी को भीगे चने खाते देखा होगा. भीगे चने खाने में कोई प्रॉब्लम नहीं है. पानी में भीगे चने मे carbohydrates और प्रोटीन जैसे nutrition की मात्रा काफी ज़्यादा होती है, और fat काफी कम होता है.

और इसके अलावा इसमें आपको मिलते है फाइबर और कुछ micro nutrition जैसे की कॉपर, विटामिन बी12, फोलिक एसिड, और आयरन. अब आप ये सोच रहे होंगे की भीगे हुवे चने से तो काफी सारे पोषक तत्व मिल रहे है, लेकिन आपको ये बात ध्यान में रखनी पड़ेगी की कच्चे चने में भलेही फाइबर बहोत ज़्यादा मिलता है लेकिन आपकी बॉडी के लिए उसे digest करना काफी मुश्किल होता है.

तो अगर आप कच्चे चने खाते है तो दो बाते ध्यान में रखे. पहली, कच्चे चने बहोत कम मात्रा में खाये और खाते वक्त ठीक से चबाये. अगर आप कच्चे चने ठीक से चबाएंगे तो हमारी बॉडी automatically उसमे saliva मिक्स कर देती है जिस से हमारा digestion सिस्टम उसे आसानी से पचा लेता है.

अंकुरित चना

अंकुरित चने के बार में काफी लोगो को पता तो है लेकिन इसका सही प्रोसेस क्या है ये कोई नहीं जानता. कई लोग चने को पानी में भिगो दे ते है और फिर थोड़ा बहोत अंकुरण होने के बाद खा लेते है. पर ये तरीका बिलकुल गलत है और दूसरी बात ये है की अगर आप सही से चने को अंकुरित नहीं करेंगे तो आपकी बॉडी को वो सारे nutrients नहीं मिल पाएंगे जो अंकुरित चने में होते है.

सही से अंकुरण लाने के लिए पहले चने को धोके 8 से 10 घंटे तक पानी में रखे. फिर जब चने पानी सोख के साइज में थोड़े बड़े हो जाए तब उसे पानी से बहार निकाल के एक छलनी में रख दे. फिर उस छलनी को एक साफ़ कपडा लेके ऊपर से ढँक दे और निचे से खुला छोड़ दे ताकि उसे निचे से हवा मिलती रहे. फिर भीगे चने को इसी हालत में 12 से 14 घंटे के लिए छोड़ दे. फिर जब आप उस कपड़े को हटाएंगे तो आपको मिलेगा unexpected result.

दोस्तों, अब आप में से कई लोगो के दिमाग में ये सवाल आ रहा होगा की हमें कौनसे चने खाने चाहिए, अंकुरित चने या फिर कच्चे चने. कच्चे चने के मुक़ाबले अंकुरित चने के फायदे बहोत ज़्यादा होते है. अंकुरित चने में कई सारे पोषकतत्व की मात्रा बढ़ जाती है, जैसे की एंजाइम, प्रोटीन, विटामिन, मिनरल, और फाइबर.

पर अंकुरित चने के ये nutrients सुन के जल्दबाज़ी में कोई decision मत लेना. आप यकीन नहीं करेंगे but अंकुरित चने की एक डार्क साइड भी है. चने को ठीक से अंकुरित करने के लिए हमें इसे लम्बे समय तक पानी में रखना पड़ता है और इतने लम्बे वक्त तक चने पानी में रखने की वजह से इसमें कुछ बैक्टीरिया grow हो जाते है. तो अंकुरित चने बच्चे, बूढ़े, और गर्भवती महिलाओ को कभी नहीं देने चाहिए, क्योंकि इन लोगो की immunity power काफी कमज़ोर होती है.

पके हुवे चने

कच्चे और अंकुरित चने के comparison में अगर हम पके हुवे चने की बात करे तो ये हर किसी के लिए काफी healthy होते है. जैसे की अभी हमने बात की, कच्चे चने बॉडी में ठीक से डाइजेस्ट नहीं हो सकते, इसके लिए बॉडी को बहोत ज़्यादा ताक़त लगानी पड़ती है, और अंकुरित चने लम्बे वक्त तक पानी में होने की वजह से उसमे बैक्टीरिया का खतरा भी होता है. तो बच्चे बूढ़े और गर्भवती महिलाओँ के लिए ये सेफ नहीं है, लेकिन पके हुवे या कहे उबले हुवे चने हर कोई खा सकता है. हाँ ये बात ज़रूर है की उबले हुवे या फिर पके हुवे चने में विटामिन्स और मिनरल्स थोड़े कम हो जाते है लेकिन बॉडी के लिए पके हुवे चने काफी सेफ है.

उबाल ने के बाद चने सॉफ्ट हो जाते है और इसी लिए बॉडी उसे आराम से डाइजेस्ट कर सकती है, इसके अलावा उबले हुवे चने की bio-availability काफी ज़्यादा होती है, याने की उबले हुवे चने में प्रोटीन 12 प्रतिशत ज़्यादा बेहतर तरीके से बॉडी में absorb होता है. कच्चे चने का एक और साइड इफ़ेक्ट ये भी है की उसमे कॉम्प्लेक्स शुगर बहोत ज़्यादा होता है तो अगर आप कच्चे चने एक limit से ज़्यादा खाते है तो गैस होने के भी chances है. लेकिन चने उबाल ने से complex sugar ब्रेक डाउन हो जाता है और फिर आप आराम से खा सकते है.

दोस्तों, अब बात करते है की चने खाने का सही समय क्या है?

अगर पके हुवे चने की बात करे तो वो हमारी बॉडी में आराम से डाइजेस्ट हो जायेंगे. इस लिए पके हुवे चने आप कभी भी खा सकते है. लेकिन अगर आप पके हुवे चने सुभे नास्ते में खाएंगे तो आपकी बॉडी को इस से काफी एनर्जी मिलेगी.

लेकिन पानी में भीगे चने बॉडी आराम से पचा नहीं पाती इस लिए इसे सुभे खाली पेट खाना चाहिए, सुभे हमारी बॉडी काफी फ्रेश फील करती है इस लिए उस वक्त हमारा पाचनतंत्र चने को ज़्यादा आसानी से पचा सकता है. तो सुभे आप एक मुठी या फिर 50 ग्राम जितने भीगे चने खा सकते है.

अगर आप वजन कम करना चाहते है तो ज़ाहिर सी बात है की आपको एक strict डाइट फॉलो करनी पड़ती होगी और शायद आपको शाम के वक्त बहोत तेज़ भूख लगती होगी. अगर ऐसा है तो आप शाम को भुने हुवे चने snacks की तरह भी खा सकते है. लेकिन साथ ही इस बात का ख्याल भी रखे की भुने हुवे चने को छिलके के साथ खाना चाहिए क्योंकि चने के छिलके में ही सबसे ज़्यादा फाइबर होता है.

अगर आप वजन बढ़ा ना चाहते है तो आपको उबले हुवे चने ही खाने चाहिए. इसके लिए 50 ग्राम जितने चने रात को पानी में भिगो दे और सुभे उसे उबाल के नास्ते में खाले, इसके अलावा दोपहर को आप भुने हुवे चने गुड़ के साथ खा सकते है और इसी तरह भुने हुवे चने और गुड़ शाम के नास्ते में भी इस्तेमाल कर सकते है.

Leave a Comment